बारिश में भी बेफिक्र टचस्क्रीन! नया टेक्नोलॉजी लाया पानीरोध क्षमता

बारिश में भी बेफिक्र टचस्क्रीन! नया टेक्नोलॉजी लाया पानीरोध क्षमता

Share with
Views : 12

अब बारिश में फ़ोन इस्तेमाल करते समय स्क्रीन पर टपकती बूंदों की चिंता करने की ज़रूरत नहीं है! वैज्ञानिकों ने एक नया टेक्नोलॉजी विकसित किया है जो टचस्क्रीन को पानी प्रतिरोधी बनाता है. इसका मतलब है कि हल्की बारिश या फ्रिज से निकाले गए ठंडे डिब्बे को छूने से लगने वाली ओस की वजह से भी आपका फोन अब अजीब तरह से काम नहीं करेगा.

आप सोच रहे होंगे कि आखिर पानी टचस्क्रीन को कैसे प्रभावित करता है? तो आपको बता दें कि ज़्यादातर स्मार्टफोन और टैबलेट कैपेसिटिव टचस्क्रीन का इस्तेमाल करते हैं. ये स्क्रीन बहुत छोटे विद्युत क्षेत्रों (इलेक्ट्रिक फील्ड) के जरिए काम करती हैं. जब आप अपनी उंगली स्क्रीन पर रखते हैं, तो आपकी त्वचा और स्क्रीन के बीच में एक छोटा विद्युत प्रवाह बनता है. यही प्रवाह डिवाइस को ये बताता है कि आपने स्क्रीन को कहां छुआ है.

लेकिन पानी भी विद्युत का सुचालक होता है. इसलिए, जब पानी की बूंद स्क्रीन पर पड़ती है, तो वो भी उसी तरह का विद्युत प्रवाह बना सकता है, जिसे डिवाइस आपकी उंगली के स्पर्श के तौर पर गलत समझ सकता है. इससे स्क्रीन पर गलत इनपुट हो सकते हैं और फोन इस्तेमाल करना मुश्किल हो सकता है.

इसी समस्या का समाधान है नया "सेल्फ-कैपेसिटेंस" टेक्नोलॉजी. ये टेक्नोलॉजी स्क्रीन में ही एक खास तरह की कोटिंग का इस्तेमाल करती है, जो स्क्रीन की अपनी विद्युत क्षमता (सेल्फ-कैपेसिटेंस) को बदल देती है. अब जब भी कोई बाहरी चीज़, चाहे वो उंगली हो या पानी की बूंद, स्क्रीन को छूती है, तो स्क्रीन में विद्युत प्रवाह में एक स्पष्ट अंतर होता है. इस अंतर को डिवाइस आसानी से पहचान सकता है और केवल उंगली के स्पर्श को ही रजिस्टर करता है.

अभी तक ये टेक्नोलॉजी अपेक्षाकृत नई है और धीरे-धीरे ही स्मार्टफोन और दूसरे टचस्क्रीन डिवाइसों में शामिल की जा रही है. लेकिन उम्मीद है कि आने वाले समय में ये आम हो जाएगी. इससे न केवल बारिश में फोन इस्तेमाल करना आसान हो जाएगा, बल्कि पूल के किनारे या समुद्र तट पर भी आप बेफिक्र होकर फोटो खींच सकेंगे और वीडियो बना सकेंगे.

इस टेक्नोलॉजी के कई और फायदे भी हैं. उदाहरण के लिए, रेस्टोरेंट में ऑर्डर देते समय या जिम में एक्सरसाइज़ करते समय अगर आपके हाथों पर पसीना आ जाता है, तो भी नया टेक्नोलॉजी गलत इनपुट को रोकेगा और आपकी टचस्क्रीन को सही तरह से काम करता रहेगा. कुल मिलाकर, ये नया विकास टचस्क्रीन टेक्नोलॉजी में एक महत्वपूर्ण कदम है और भविष्य में हमें ज़्यादा सुविधाजनक और परेशानीमुक्त अनुभव प्रदान करेगा.

error: कॉपी नहीं होगा भाई खबर लिखना सिख ले