RBI ने विकास दर के अनुमान को बढ़ाया, ग्रामीण क्षेत्रों के बारे में कही यह खास बात

RBI ने विकास दर के अनुमान को बढ़ाया, ग्रामीण क्षेत्रों के बारे में कही यह खास बात

Share with
Views : 37
भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने 2024-25 के लिए भारत की आर्थिक विकास दर के अनुमान को बढ़ाकर 7.2 प्रतिशत कर दिया है। यह अनुमान मई में किए गए 6.8 प्रतिशत के अनुमान से अधिक है।

यह वृद्धि मजबूत घरेलू मांग, विशेष रूप से निजी खपत और निवेश में वृद्धि के साथ-साथ निर्यात में सुधार के कारण होने की उम्मीद है।

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि "भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूत बुनियादी बातों और सुधारों के समर्थन से मजबूती से आगे बढ़ रही है।"

उन्होंने कहा कि "हालांकि, वैश्विक अनिश्चितताओं और घरेलू चुनौतियों से कुछ जोखिम बने हुए हैं।"

ग्रामीण क्षेत्रों के लिए विशेष ध्यान

RBI ने ग्रामीण क्षेत्रों में विकास को मजबूती देने के लिए कई उपायों की भी घोषणा की।

इन उपायों में कृषि क्षेत्र को ऋण उपलब्धता में वृद्धि, ग्रामीण बुनियादी ढांचे में निवेश और ग्रामीण उद्यमिता को बढ़ावा देना शामिल है।

दास ने कहा कि "ग्रामीण अर्थव्यवस्था भारत की समग्र आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।"

उन्होंने कहा कि "इन उपायों से ग्रामीण क्षेत्रों में मांग और निवेश को बढ़ावा मिलेगा, जिससे समावेशी विकास सुनिश्चित होगा।"

विशेषज्ञों की प्रतिक्रिया

विशेषज्ञों ने RBI के संशोधित विकास दर के अनुमान का स्वागत किया है।

आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज के प्रमुख अर्थशास्त्री, हरीश तनेजा ने कहा कि "यह एक सकारात्मक विकास है जो मजबूत घरेलू मांग और सुधारों के समर्थन से भारतीय अर्थव्यवस्था की मजबूती को दर्शाता है।"

उन्होंने कहा कि "हालांकि, वैश्विक अनिश्चितताओं पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है, जो जोखिम पैदा कर सकती हैं।"

निष्कर्ष

RBI द्वारा विकास दर के अनुमान को बढ़ाया जाना भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए एक अच्छी खबर है।

यह मजबूत घरेलू मांग, सुधारों और ग्रामीण क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करने के सरकार के प्रयासों को दर्शाता है।

हालांकि, वैश्विक अनिश्चितताओं पर नजर रखना महत्वपूर्ण है, जो जोखिम पैदा कर सकती हैं।
error: कॉपी नहीं होगा भाई खबर लिखना सिख ले